Loading...

Ganga Chalisa paath

मनुष्यों के पाप को नष्ट करने वाली गंगा चालीसा का पाठ करने से निम्नलिखित लाभ होते हैं:

  1. गंगा चालीसा का पाठ करने से भक्त को गंगा माँ की कृपा और आशीर्वाद प्राप्त होता है।
  2. इस चालीसा का पाठ करने से भक्त का मानसिक और आत्मिक शुद्धि होती है।
  3. गंगा चालीसा का पाठ करने से भक्त की आत्मा को शांति और सुकून मिलता है।
  4. यह चालीसा भक्त को गंगा माँ के शक्तिशाली गुणों का अनुभव कराती है।
  5. गंगा चालीसा का पाठ करने से भक्त को अपने जीवन में सुख, समृद्धि, और सफलता की प्राप्ति होती है।
  6. इस चालीसा का पाठ करने से भक्त का मानवता के प्रति आदर्श और समर्पण बढ़ता है।
  7. गंगा चालीसा का पाठ करने से भक्त का जीवन उत्कृष्ट और सकारात्मक दिशा में बदलता है।
  8. इस चालीसा का पाठ करने से भक्त को दैवी शक्तियों की सुरक्षा मिलती है।
  9. गंगा चालीसा का पाठ करने से भक्त को दुःख, दरिद्रता, और अन्य संकटों से मुक्ति मिलती है।
  10. इस चालीसा का पाठ करने से भक्त का जीवन स्वयं में सुंदरता, उत्कृष्टता, और धर्म की प्राप्ति होती है।

गंगा चालीसा पाठ

जय गंगे मैया, जय जहानी। करहु कृपा निज जन पर, निशिदिन ग्यानी॥

जनम-जनम के पाप नसावें। मन तजे शोक सब अभिमानी॥

करहु विनती जय जय जहानी। शिव संग लहैं जो फल कहानी॥

गंगा जी के गुण अधिकाने। करहु कृपा हे कलियुग निधानी॥

अनित्य सब लोक तुम्हारे। करत सब प्राणी सन्मानी॥

भारत में अति प्रिय गंगा। चारों वेदों में उचार तुम्हारे॥

संतन के पाप ढाकें जाती। जगजननी तुम ही हो व्रत पुरातनी॥

गंगा चालीसा पढ़त जो कोई। त्रिभुवन सुखी फल जासी॥

प्रातः काल जिसको गंगा धोए। ताकि मन वांछित फल होए॥

जो कोई गंगा जल से स्नान करावे। ताहि विधिवत फल पावे॥

संगम में गंगा तीरथ स्थित हैं। त्रिपथगामी तीर्थ अधिक मानी॥

पुष्कर में गंगा की महिमा। पढ़त सुनत सब होत गए निर्मल जीवन माया॥

गंगा चालीसा पढ़ित गंगा नहावे। श्राद्ध करै तो उसका कोई न जावे॥

पठेंगे गंगा चालीसा नित्य नाना भांति। तीर्थ यात्रा करहुं सर्व सुखांति॥

गंगा के पुण्य से स्वर्ग लोक पावें। सब भव विमुख होकर शिवलोक जावें॥

गंगा माँ के प्रताप सदा गावें। वैकुंठ धाम की आस लगावें॥

गंगा चालीसा सुनत सुखी। हरि की शरण में आवे नुकी॥

जो कोई पढ़े गंगा चालीसा। सब पाप हरहुं तज हीसा॥

प्रतिदिन पाठ करें जो कोई। गंगा जी के गुण गावें॥

गंगा माँ की कृपा पावें। भक्त जन कहलावें॥

गंगा चालीसा के पाठ से गंगा माँ की कृपा प्राप्त होती है और भक्त के जीवन में सुख, समृद्धि, और शांति की प्राप्ति होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

INR
USD
EUR
AUD
GBP
INR
USD
EUR
AUD
GBP