23 Apr, 2024- Hanuman jayanti mystery

हनुमान जयंती हनुमान जी के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है और यह त्योहार हिन्दू धर्म में बहुत महत्वपूर्ण है। हनुमान जी को भगवान राम के विशेष भक्त माना जाता है और उन्हें शक्ति, साहस, और वीरता का प्रतीक माना जाता है।

हनुमान जयंती को विशेष उत्सव और पूजा-अर्चना के साथ मनाया जाता है। लोग हनुमान जी के मंदिर जाकर उन्हें फल, पुष्प, और लाल रंग की माला चढ़ाते हैं। इस दिन भजन-कीर्तन और भगवद गीता के पाठ किए जाते हैं।

हनुमान जयंती को पारंपरिक रूप से भारत भर में मनाया जाता है, लेकिन इसे विभिन्न राज्यों और क्षेत्रों में अलग-अलग तरीके से मनाया जा सकता है। यह त्योहार भक्तों के लिए एक आनंदमय दिन होता है जब वे हनुमान जी की पूजा और अर्चना करते हैं और उनसे आशीर्वाद मांगते हैं।

हनुमान जयंती हिंदू कैलेंडर के अनुसार चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को मनाई जाती है। इस दिन भगवान हनुमान के भक्त उनकी पूजा-अर्चना करते हैं और उन्हें विभिन्न प्रकार के प्रसाद चढ़ाते हैं। यह त्योहार भगवान हनुमान की कृपा और आशीर्वाद के लिए विशेष महत्व रखता है।

हनुमान जी की पूजा और मंत्रों का जाप करने से उनके भक्तों को शांति, सुख, समृद्धि, और आरोग्य की प्राप्ति होती है। नीचे एक साधारण हनुमान जी की पूजा विधि दी गई है जो आप अपने घर पर कर सकते हैं:

हनुमान जी की पूजा विधि:

  1. पूजा के लिए साफ़ और शुद्ध स्थान चुनें।
  2. हनुमान जी की मूर्ति या फोटो के सामने आसन पर बैठें।
  3. पूजा के लिए पूजन सामग्री जैसे दीपक, धूप, अगरबत्ती, सिंदूर, रोली, चावल, फूल, नरियल, पान, सुपारी, इत्यादि तैयार करें।
  4. सबसे पहले गणेश जी की पूजा करें।
  5. फिर हनुमान जी की मूर्ति या फोटो को साफ पानी से धोकर पुनः स्नान कराएं।
  6. उसके बाद हनुमान जी को दूध, घी, शहद का भोग चढ़ाएं।
  7. अब पुष्प, धूप, दीप, और नैवेद्य चढ़ाएं।
  8. फिर “ॐ हं हनुमते फ्रौं नमः” (om hamm hanumante froum namaha) मंत्र का 108 बार जाप करें।
  9. समाप्ति में आरती उतारें और प्रसाद बाँटें।

ये मंत्र नियमित रूप से जाप करने से हनुमान जी की कृपा प्राप्ति होती है और उनके आशीर्वाद से समस्याओं का निवारण होता है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *