Loading...

Kanakadhara Lakshmi strot

आर्थिक तरक्की देने वाली कनकधारा लक्ष्मी स्त्रोत के पाठ से निम्नलिखित लाभ मिलते हैं:

  1. धन समृद्धि: माता कनकधारा लक्ष्मी की कृपा प्राप्ति से धन समृद्धि होती है।
  2. आर्थिक स्थिरता: कनकधारा लक्ष्मी के पाठ से व्यक्ति की आर्थिक स्थिरता में सुधार हो सकता है।
  3. उच्च स्थान प्राप्ति: यह पाठ व्यक्ति को सम्मानजनक उच्च स्थान प्राप्ति में मदद कर सकता है।
  4. कर्म सफलता: कनकधारा लक्ष्मी के पाठ से कर्म सफलता मिल सकती है और कार्यों में वृद्धि हो सकती है।
  5. आर्थिक संकट से मुक्ति: इस चालीसा का पाठ करने से आर्थिक संकटों से मुक्ति मिल सकती है।
  6. आनंद और सुख: कनकधारा लक्ष्मी के पाठ से जीवन में आनंद और सुख की प्राप्ति हो सकती है।
  7. धर्मिक उत्थान: इस कनकधारा लक्ष्मी का पाठ करने से व्यक्ति का धर्मिक उत्थान हो सकता है।
  8. संतान सुख: कनकधारा लक्ष्मी के पाठ से संतान सुख मिल सकता है और परिवार में खुशियां आ सकती हैं।
  9. कार्यों में समृद्धि: यह कनकधारा लक्ष्मीव्यक्ति के कार्यों में समृद्धि और सफलता ला सकती है।
  10. स्वास्थ्य और विजय: कनकधारा लक्ष्मी का पाठ करने से स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है और विजय प्राप्ति हो सकती है।

कनकधारा स्तोत्र, जिसे आदि शङ्कराचार्य ने रचा है, भगवान लक्ष्मी की कृपा और आशीर्वाद को प्राप्त करने के लिए प्रार्थना करता है। इस स्तोत्र को पढ़ने से माता लक्ष्मी की कृपा मिलती है और धन, समृद्धि, और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। यहां कनकधारा स्तोत्र का पाठ दिया जा रहा है:

कनकधारा स्तोत्रम् जगतंदे विष्णुवल्लभे मतिर्मे कंस्थ्यकरी हरि: प्राये तुरगायितनया या सा प्रीतये | त्वदीयं वास्तु गोपतिरपि व्यसनं न कुर्वन् यदप्यालं लघु क्रियाफलमस्त्वोद्युक्तित: || १ ||

प्रकृष्टं ते प्रतिनिधिमुदित: दृष्ट्या विहन्तुं शक्तश्चक्रं करुणया विमर्शन्यस्तु कर्तुं | कर्पूरैर्निवहस्तु कलिताकिरीटं चकोरः स्तनी त्वामचलपते सुरत्नां सिषेवे य: || २ ||

मुकुन्दाब्जयुग्म विरिञ्चि सुमानस: स्फुरन्ति दिव्याभिर्दिवसकृताभिरेव वाणीर्बध्नाति | सक्तान्दधानाकर बाहुद्भवं नैकं शरण्यं गजेन्द्रैर्निबिडिताकराम राजहंसै: स्थुलाम् || ३ ||

सम्पत्तुः कामप्रदमामयादि सौभाग्यदाम्नी पुंसामप्यधिकायमान्यमुभौ लक्ष्मीदिव्ये | दरिद्राणां विदारणे दृढधियामीश्वरी श्रियं भजन्ते ये तव कुपारम्भणश्चकस्ते धन्यास्ते || ४ ||

त्वद्भक्ता रजतादिपारमरारविन्दयुग्म कोट्यामिष्टामर्धितचामरतादीनामुपेक्ष्य | सत्तां ते पातु साक्षिणी भगवती पापानि किं किं कुर्वन्ति पुनरेव भगवन्तं स्तदा मां || ५ ||

कदाम्बरी कान्तिमशेषजननी कामाक्षिप्रिये करारविन्दे करुणामहो न वारातर्यहेतो: | कर्पूरगौरं करुणानिधानं सम्प्रपद्ये श्रीं क्लेां निधानेऽखिलभूषणं त्वद्यष्टकं तु प्रणम्य || ६ ||

श्लोकाच्चन्द्रं पुरुषमाद्यं न विजानन्ति धीराः सामान्या अश्लोकभवन्ति भवान्यष्टक्षरा गता: | इतीशः पादसंस्थितं यतिमीशं भजामि सन्तं देवं लक्ष्मीकान्तमहं प्रपद्ये प्रभाविष्णुम् || ७ ||

सदा वसन्तं हृदयारविन्दे भवं भवानीसहितं नमामि | त्वां तपसान्तरधितानामेव विश्वं त्वमीश्वरि त्वमीश्वरी || ८ ||

स्तुता स्तुतेभ्यो वरदा भवत्स्याद्भवत्स्य भूयो नमो नमस्ते | यस्यां दिशि विश्वमितं विश्वं नानाभूतं विश्वमेतदेकस्थितम् || ९ ||

अनन्तपुण्यफलविक्रियाभ्यां महोपयंतुमपि प्रभावात् | नमामि नित्यं शिवासुतं गिरिजां निमेषान्तायासमुद्रगमनाय || १० ||

या श्री: स्तवार्थिन: पुनन्ति वाचं यस्यां विलीनं भुवनं पुराणम् | अजस्रं विश्वं भवत्यखण्डलोकं सत्वन्तं सिष्या मनुजैर्वदन्ति || ११ ||

धाता त्वं पुरा कृतेऽखिले जगति वैकुण्ठपूजे मदनादिभागे | त्वयि विष्णो पुरदहं तथा चान्ये समुद्दिशन्ते परिचारकाः स्थिताः || १२ ||

स्तोत्राणि यानि च पठन्ति पितरः पुरा विश्वक्षेत्रे तव पुण्यभाग्ये | तानि त्वं विश्वे प्रतिमोपनीतानि तस्मात् प्रयान्ति सदनं तवाद्य || १३ ||

सत्यानृते च मिथुनीकृतेऽप्यखिलं सत्यमित्यत्यन्तमस्ति निर्वचनं त्वदीये | त्वद्दर्शने दिवि न वा भवेत्सत्यं त्वत्त: प्रमेयं भुवि नास्ति चानृतम् || १४ ||

क्षिप्रं प्रदोषे विहगैरुपसेवितो यत् पादपानां फलवन्तं प्रपद्यते | तद्वासरे नाथ तवांघ्रियुग्मयोर्याम् इयं न केवलगता भवत्यसत्यम् || १५ ||

कर्णाटकाकर्णपुरे रताधिकारमात्मानमेव ध्यातुमिह शक्तिरुपादानम् | सर्वं जगद्ध्यानयुतं प्रारब्धदोषान्न पुनात्याद्यमिहैव लक्ष्मीचरण्या: || १६ ||

त्वत्त: सर्वं प्रयतं महदन्तरङ्गं सत्यं विचिन्त्य दुरितारणीं परं च धीमान् | यत्ते पदाम्भोजनमेव प्रपन्नानामियं निर्वृत्तिरुपेयुषी जगतीति त्वयि || १७ ||

श्रीसुक्तिरियं प्रकृतौ प्रतिष्ठितायामृषेर्मुखाच्छ्रुतिमुपेयुषी जगत्त्रये | यस्यामिषत्पदमनन्तकिरणं विलासवैकुण्ठकटाक्षविषयं निरीक्ष्य || १८ ||

त्वद्वृन्दवन्द्वन्द्वविनिर्गतानन्दांशुस्त्रिलोकीं प्रकटितार्थप्रकाशांशुभिः | अपूर्यमाणां भवभानुभानुरागैर्दिव्यैर्दिव्यैरिव विभाव्य भवांसि || १९ ||

त्वय्येव लोकं परिपालयसि सर्वं यस्यैव शक्त्या स्थितमात्मभावयोगं | सा मे समस्ताखिलभूषणदात्री भवेत्सुदेहे सदिव प्रसीद लक्ष्मी: || २० ||

कन्दर्पगौरमहिषीं समवितुम्बिनीं श्रियं भूतिं कान्तादुपास्महे तव वदनाम्भोरुहाम् | अन्तः पुरं गतानां बहिरपि वसन्तीं प्राप्नुवन्तीं कामेषु प्रार्थितार्थप्रदमुदयाचलां वाञ्छिताम् || २१ ||

यः प्रेताखिलसृजः प्रवरदवाग्धारयित्री सुखावहा भूयोभिर्व्यालराटां प्रमदनशर्माभिरामादिकां सकलाम् | स्तोतुं देवि त्वां कथमकृतपुण्यः कथञ्चिदानन्दवन्द्वाम् इष्टैर्भूषणां भुवि भावयन्नित्यं भूयो भूयः प्रणमामि || २२ ||

दुष्कर्माम्भोजभारात्तरुणिनि धृतं पद्मं स्तोतुं शम्भो: शंसन्नारदादित्यैर्निमिषमिव साक्षाद्देव्या समुचितम् | एकान्तां त्वां भजन्तो मुनयः कुत्रापि सर्वापद्ध्यवस्था- स्त्वद्दत्ता देवि लक्ष्मी: कथमिह वा लाभो भवेद्धृदि || २३ ||

कामेश्वरीं कामनाथमुखकमलं कामिनीनाम् कामाक्षीं कामदा भगवति श्रियमिच्छन्तीनाम् | काञ्चीपुरे काम्यगमनकृतमानसाभिरामाम् कालिकां कात्यायनीं भजति यः साक्षात्तव प्रियाम् || २४ ||

वर्षामिव धरायाः सुखवति वसतीं सुरभिं धनाध्यामा- लक्ष्मीं लक्ष्मीसहस्रकमलनिलयां श्रीः पद्मनाभां भजे | द्वादशैतानि नामानि लक्ष्म्यास्त्वं प्रयतो नर: पठेन्नित्यं मासे तिष्ठेत् स यः प्रभुतां भजते सच्चात्मकां लक्ष्मीम् || २५ ||

इति श्रीकण्ठादिकृता कनकधारा स्तवा प्रारभ्यते | श्रीकण्ठस्तोत्राणां पठनात्पठनाच्च यः प्रयत: श्रद्धावान् सोऽपि सर्वान् कामानवाप्नोति || २६ ||

पुन: स्तोत्रं समाप्तं ||

श्रीकण्ठादि-श्रीकण्ठ-अपि अत्र प्रयुक्तं नाम इति सम्प्रदायः ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

INR
USD
EUR
AUD
GBP
INR
USD
EUR
AUD
GBP