Loading...

Lakshmi strot

आर्थिक उन्नति करने वाली “लक्ष्मी स्त्रोत” एक प्रमुख स्तोत्र है जो देवी लक्ष्मी की महिमा और महत्व को वर्णित करता है। यह स्तोत्र लक्ष्मी माता की प्रार्थना करते हुए उनके आशीर्वाद की प्राप्ति के लिए जपा जाता है। इसके पाठ से समृद्धि, सुख, सम्पत्ति, और सफलता की प्राप्ति में मदद मिलती है।

लक्ष्मी स्त्रोत

नमस्तेऽस्तु महामाये श्रीपीठे सुरपूजिते। शंखचक्रगदाहस्ते महालक्ष्मि नमोऽस्तु ते॥

नमस्ते गरुडारूढे कोलासुरभयंकरी। सर्वपापहरे देवी महालक्ष्मि नमोऽस्तु ते॥

सर्वज्ञे सर्ववरदे सर्वदुष्टभयांकरि। सर्वदुःखहरे देवी महालक्ष्मि नमोऽस्तु ते॥

सिद्धिबुद्धिप्रदे देवि भुक्तिमुक्तिप्रदायिनि। मन्त्रमूर्ते सदा देवी महालक्ष्मि नमोऽस्तु ते॥

आद्यन्तरहिते देवि आदिलक्ष्मीनमोऽस्तु ते। स्तोत्राणि पठतां येऽस्तु वैष्णवीमनसा सदा॥

धन्याधन्ये निधिपदे निधिपदे पद्मिनि। पद्मिनि पद्मसंभवे पद्मनाभसुते नमः॥

सर्वागमस्वरूपे त्वं सन्निधानं कुरु माम्। श्रीमहालक्ष्मि नमस्तुभ्यं नमस्ते गरुडारूढे॥

“लक्ष्मी स्त्रोत” के पाठ से भक्त को लक्ष्मी माता के आशीर्वाद से समृद्धि, सुख, सम्पत्ति, और सफलता मिलती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

INR
USD
EUR
AUD
GBP
INR
USD
EUR
AUD
GBP