Katyayani Chalisa paath


शादी-व्याह व मंगल कार्य मे सफलता दिलाने वाली कात्यायनी चालीसा का पाठ करने से निम्नलिखित लाभ होते हैं:

  1. कात्यायनी चालीसा का पाठ करने से भक्त को माँ कात्यायनी की कृपा और आशीर्वाद प्राप्त हो सकते हैं।
  2. इस चालीसा का पाठ करने से भक्त को माँ कात्यायनी के गुणों का अनुभव हो सकता है और उनके प्रति भक्ति बढ़ सकती है।
  3. कात्यायनी चालीसा का पाठ करने से भक्त का मानसिक और आत्मिक शुद्धि हो सकती है और उन्हें भगवती की कृपा मिल सकती है।
  4. यह चालीसा भक्त को दुःख, दरिद्रता, और अन्य संकटों से मुक्ति दिलाने में सहायक हो सकती है।
  5. कात्यायनी चालीसा का पाठ करने से भक्त को अपने जीवन में सुख, समृद्धि, और सफलता की प्राप्ति हो सकती है।
  6. इस चालीसा का पाठ करने से भक्त का जीवन स्वयं में सुंदरता, उत्कृष्टता, और धर्म की प्राप्ति हो सकती है।
  7. कात्यायनी चालीसा का पाठ करने से भक्त को आर्थिक स्थिति में सुधार और आर्थिक समृद्धि की प्राप्ति हो सकती है।
  8. यह चालीसा भक्त को भगवती की भक्ति में स्थिरता और आत्म-समर्पण की भावना प्रदान कर सकती है।
  9. कात्यायनी चालीसा का पाठ करने से भक्त को भगवती की कृपा से सुरक्षा, सुख, और समृद्धि की प्राप्ति हो सकती है।
  10. इस चालीसा का नियमित पाठ करने से भक्त का मन स्थिर होता है और उसे जीवन में उच्च स्तर की उत्कृष्टता की प्राप्ति हो सकती है।

कात्यायनी चालीसा पाठ

जय कात्यायनी, जय भवानी। तुम ही जगदम्बे, सुनत विनती हमारी॥

तुम ही दुःख हरिणी, दुर्गे भवानी। भक्तों की रक्षा करो, त्राहि त्राहि भवानी॥

तुम ही कात्यायनी, माँ भवानी। दुःख दरिद्रता निवारो, दया करो भवानी॥

तुम ही जगजननी, जय कात्यायनी। कृपा करो माँ, संसार सागर से पार कराने वाली॥

कात्यायनी माँ की जय, कात्यायनी माँ की जय। जो कोई भी तेरा चालीसा पढ़ता है, उसका सभी कष्ट मिट जाते हैं॥

कात्यायनी माँ की कृपा बनी रहे, कात्यायनी माँ की शक्ति बनी रहे। तुम्हारे चरणों में सदा श्रद्धालु रहें, और तुम्हें नित स्तुति करते रहें॥

कात्यायनी माँ की कृपा से ही, हमें सबी सुख मिलता है। तुम्हारे चरणों में शरणागत हैं हम, जय कात्यायनी कृपा करो हम पर॥

माँ कात्यायनी की जय, जय भवानी। तुम्हारी कृपा से ही हम सभी कुछ हैं, तुम्ही हो हमारी शक्ति और सहायक।

जय कात्यायनी देवी, जगदम्बे माँ। हमें सबल बनाओ, हमें निराश न करना॥

कात्यायनी माँ की जय, जय भवानी। तुम्हारे चरणों में सदा श्रद्धालु रहें, और तुम्हें सदा स्मरण करते रहें॥

यहाँ कात्यायनी माँ की चालीसा के पाठ ४० दिन तक लगातार करने से माँ कात्यायनी की कृपा,मन पसंद विवाह का आशीर्वाद, और सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *