Loading...

Pitra & shrapit dosh nivaran pujan shivir

मुंबई के निकट वज्रेश्वरी मे अमवस्या मे पित्र व श्रापित दोष निवारण पूजन का आयोजन होने जा रहा है. जिनकी कुंडली मे अश्लेशा, मघा, रेवती, ज्येष्ठा, मूल व अश्विनी नक्षत्र हो, उनको पित्र दोष या मूल दोष माना जाता है.

पित्र दोष होने से विवाहित जीवन मे कलह, शादी व्याह संतान वंश की समस्या, नजर तंत्र बाधा की समस्या व आर्थिक समस्या आने की संभावना अत्यधिक मानी जाती है. ये दोष शत्रुओ की संख्या को बढा देता है. पित्रो यानी पुर्वजो के श्राप की वजह से वंश बढना मुश्किल हो जाता है.

इसलिये इस पूजन मे भाग लेना अनिवार्य माना जाता है. अगर आप शिविर मे भाग लेना चाहते है तो प्रत्यक्ष आकर भाग ले सकते है या ऑनलाईन भी भाग ले सकते है. नीचे डिस्क्रिप्शन मे लिंक दिया गया है, वहा से आप बुकिंग करवा सकते है.

PITRA DOSHA PUJAN – BOOKING

पितृ दोष और मूल दोष की पूजा या उपासना करने से व्यक्ति को कई लाभ हो सकते हैं। ये लाभ शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक स्तर पर होते हैं।

  1. कर्मफल सुधार: पितृ दोष और मूल दोष की पूजा से कर्मफल में सुधार हो सकता है। ये दोष कर्मक्षय और कर्मफल को प्रभावित करने वाले किसी भी अवस्था को सुधार सकते हैं।
  2. परिवार में सुख शांति: पितृ दोष और मूल दोष की पूजा से परिवार में सुख और शांति बनी रह सकती है। इससे परिवार के सदस्यों के बीच सम्मान और प्रेम बढ़ सकता है।
  3. आर्थिक स्थिति में सुधार: ये पूजा आर्थिक स्थिति में सुधार कर सकती है और धन लाभ को प्रोत्साहित कर सकती है।
  4. आत्मिक विकास: इस पूजा से आपका आत्मविकास हो सकता है और आपकी आत्मा की शुद्धि हो सकती है।
  5. पूर्वजों की आत्मा को शांति मिलना: पितृ दोष और मूल दोष की पूजा से आपके पूर्वजों को भी आत्मिक शांति मिल सकती है।

ये लाभ पूजा को विधिवत और भक्ति भाव से करने पर होते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

INR
USD
EUR
AUD
GBP
INR
USD
EUR
AUD
GBP