Loading...

Shurpkarna ganesha mantra wisdom

उन्नति का राह दिखाने वाले शूर्पकर्ण गणेश भगवान गणेश के एक प्रसिद्ध स्वरूप हैं जो कि एक सुन्दर विग्रह में दो बड़े कानों वाले होते हैं। इसका नाम “शूर्पकर्ण” उनके बड़े कानों के कारण है, जो एक शूर्पा या मक्खी के समान दिखते हैं। शूर्पकर्ण गणेश को बुद्धि, विवेक, और समस्याओं के समाधान के लिए जाना जाता है। उन्हें विद्यार्थियों, विद्यार्थियों, और वैज्ञानिकों के द्वारा विशेष पसंद किया जाता है क्योंकि उन्हें बुद्धि और ज्ञान के प्रतीक के रूप में माना जाता है। इनके भक्त अपने रचनात्मक विचारों के द्वारा प्रसिद्ध होते है।

शूर्पकर्ण गणेश मंत्रः ॥ॐ ग्लौं शूर्पकर्ण गणेशाय नमः॥ ||OM GLAUM SHOORPKARNA GANESHAAY NAMAHA||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

INR
USD
EUR
AUD
GBP
INR
USD
EUR
AUD
GBP