वारुणी यक्षिणी / Varuni Yakshini Mantra

स्वभाव पर नियंत्रण करने वाली वारुणी यक्षिणी एक प्रमुख यक्षिणी देवी हैं जो जल तत्व से संबंधित हैं। उन्हें अक्सर जल से संबंधित कार्यों और मुद्दों में सहायक माना जाता है। वरुणी यक्षिणी को जल मंडल की रानी या जल से संबंधित समस्याओं के जाना जाता है। उन्हें जल संरक्षण और जल से संबंधित कामों में सहायक माना जाता है। इसके अलावा, उन्हें जल तत्व की शक्ति और संरक्षण का प्रतीक भी माना जाता है।

वारुणी यक्षिणी मंत्र:

|| ॐ ह्रीं वारुणी यक्षिणी स्वाहा ||

वारुणी यक्षिणी लाभ:

  1. जल संरक्षण: वरुणी यक्षिणी के मंत्र का जाप जल संरक्षण के कार्यों में सहायक हो सकता है और जल संबंधित समस्याओं को दूर करने में मदद कर सकता है।
  2. जल संबंधित कामों में सफलता: यह मंत्र जल से संबंधित कार्यों में सफलता प्राप्त करने में सहायक होता है जैसे कि जल संबंधित व्यापार या किसी जल संरक्षण परियोजना में।
  3. जल से संबंधित समस्याओं का समाधान: वरुणी यक्षिणी का मंत्र जल से संबंधित समस्याओं का समाधान करता है, जैसे कि जल लाभ की व्यवस्था में सहायता।
  4. भूत-प्रेत शक्तियों से रक्षा: इस मंत्र का जाप विविध प्रकार की भूत-प्रेत शक्तियों से रक्षा मिलती है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *