Loading...

Navdurga mantra for health wealth prosperity

माता नवदुर्गा की कृपा यानी दुनिया का हर सुख आपकी मुट्ठी मे!

नवदुर्गा माता मे देवी के नौ रूप समाहित होते है. इनकी कृपा से जीवन का हर सुख प्राप्त होता है. इन नौ रूपों की पूजा किसी भी महीने की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा या नवरात्रि के दौरान की जाती है। नवदुर्गा माता के नौ रूप इस तरह हैं:

  1. शैलपुत्री: पर्वतराज हिमालय की पुत्री होने के कारण पार्वती माता को शैलपुत्री भी कहा जाता है
  2. ब्रह्मचारिणी: तपस्या द्वारा शिव को पाने के बाद पार्वती माता ब्रह्मचारिणी कहलाती हैं।
  3. चंद्रघंटा: जिनके मस्तक पर चंद्र के आकार का तिलक है।
  4. कूष्मांडा: ब्रह्मांड को उत्पन्न करने की शक्ति प्राप्त करने के बाद उन्हें कूष्मांडा कहा जाता है।
  5. स्कंदमाता: कार्तिकेय की माता होने के कारण पार्वती माता स्कंदमाता कहलाती हैं।
  6. कात्यायनी: महर्षि कात्यायन की तपस्या से प्रसन्न होकर माता ने उनके यहां पुत्री रूप में जन्म लिया था।
  7. कालरात्रि: दुष्टों का नाश करने के लिए माता का यह रूप है।
  8. महागौरी: शिव के साथ विवाह के बाद पार्वती माता महागौरी कहलाती हैं।
  9. सिद्धिदात्री: सिद्धियों को देने वाली माता का यह रूप है।

नवरात्रि के दौरान, भक्त अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए विभिन्न उपाय करते हैं। कुछ लोग व्रत रखते हैं, कुछ लोग कन्या पूजन करते हैं, और कुछ लोग दान-पुण्य करते हैं।

नवरात्रि बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। यह त्योहार भक्तों को देवी दुर्गा की शक्ति और कृपा प्राप्त करने का अवसर प्रदान करता है.

नवदुर्गा मंत्रः ॥ॐ ऐं ह्रीं नवदुर्गाये क्लीं दुं नमः॥

मुहुर्थः किसी भी मंगलवार, शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तक, नवरात्रि.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

INR
USD
EUR
AUD
GBP
INR
USD
EUR
AUD
GBP