Vishnu Sadhana – To get wealth and happiness

विष्णु साधना-धन व सुख समृद्धि पाने के लिये

भगवान श्री विष्णु की साधना हिंदू धर्म में एक अत्यंत महत्वपूर्ण और पुण्यदायक साधना है। भगवान विष्णु, जो संहारक, पालक और सृष्टिकर्ता माने जाते हैं, उनकी आराधना और साधना से जीवन में असीम शांति, समृद्धि और सुख की प्राप्ति होती है। विष्णु साधना का उद्देश्य भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त करना और जीवन के सभी कष्टों से मुक्ति पाना है।

विष्णु साधना की विधि

  1. प्रातःकाल स्नान: प्रातः ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान करें और स्वच्छ वस्त्र धारण करें।
  2. पूजा स्थल: पूजा स्थल को स्वच्छ करें और वहाँ एक आसन बिछाएं।
  3. मूर्ति स्थापना: भगवान विष्णु की मूर्ति या चित्र स्थापित करें।
  4. पूजा सामग्री: फूल, तुलसी दल, चंदन, धूप, दीप, नैवेद्य, फल, पंचामृत आदि की व्यवस्था करें।
  5. संकल्प: साधना का संकल्प लें और भगवान विष्णु का ध्यान करें।
  6. मंत्र जाप: भगवान विष्णु के मंत्रों का जाप करें, जैसे “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” या “ॐ विष्णवे नमः”।
  7. अर्चना: भगवान विष्णु की अर्चना करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें।
  8. ध्यान: भगवान विष्णु का ध्यान करें और उनकी लीलाओं का स्मरण करें।
  9. आरती: भगवान विष्णु की आरती करें और भोग लगाएं।
  10. प्रसाद वितरण: प्रसाद का वितरण करें और स्वयं भी ग्रहण करें।
  11. मंत्रः ॥ॐ श्रीं विष्णुवे क्लीं नमो नमः॥

विष्णु साधना के नियम

  1. सात्विक आहार: साधना के दौरान सात्विक आहार का सेवन करें। तामसिक और राजसिक भोजन से परहेज करें।
  2. ध्यान और मंत्र जाप: नियमित रूप से भगवान विष्णु का ध्यान और मंत्र जाप करें।
  3. व्रत: विष्णु साधना के दिन उपवास रखें या फलाहार करें।
  4. पवित्रता: साधना के दौरान मन, वचन और कर्म से पवित्रता बनाए रखें।
  5. भक्ति: सच्ची भक्ति और श्रद्धा के साथ साधना करें।

विष्णु साधना के लाभ

  1. सुख और समृद्धि: जीवन में सुख और समृद्धि की प्राप्ति होती है।
  2. पाप नाश: जीवन के सभी पापों का नाश होता है।
  3. मोक्ष: मोक्ष की प्राप्ति होती है।
  4. शांति: मन में शांति और स्थिरता प्राप्त होती है।
  5. स्वास्थ्य लाभ: शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार होता है।
  6. धन-धान्य की वृद्धि: घर में धन-धान्य और समृद्धि बढ़ती है।
  7. संतान सुख: संतान सुख की प्राप्ति होती है।
  8. ग्रह दोष निवारण: ग्रह दोषों का निवारण होता है।
  9. दांपत्य सुख: दांपत्य जीवन में सुख और संतोष मिलता है।
  10. शत्रुता का नाश: शत्रुता और वैर-भाव का नाश होता है।
  11. धार्मिक लाभ: धार्मिक और आध्यात्मिक लाभ मिलता है।
  12. कर्म शुद्धि: जीवन के कर्मों का शुद्धिकरण होता है।
  13. संकट निवारण: जीवन के संकटों का निवारण होता है।
  14. ज्ञान की वृद्धि: आध्यात्मिक और सांसारिक ज्ञान की वृद्धि होती है।
  15. दुर्घटनाओं से रक्षा: जीवन में आकस्मिक दुर्घटनाओं से रक्षा होती है।
  16. सकारात्मक ऊर्जा: जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।
  17. आत्मविश्वास: आत्मविश्वास और आत्म-सम्मान में वृद्धि होती है।
  18. सदगति: मृत्यु के पश्चात सदगति की प्राप्ति होती है।
  19. परिवार में सुख-शांति: परिवार में सुख-शांति और समृद्धि का वास होता है।
  20. भगवान विष्णु की कृपा: भगवान विष्णु की असीम कृपा प्राप्त होती है।

विष्णु साधना का मुहूर्त और दिन

विष्णु साधना का सर्वश्रेष्ठ समय प्रातःकाल का ब्रह्म मुहूर्त है। यह समय साधना के लिए अत्यंत शुभ माना जाता है। विष्णु साधना किसी भी दिन की जा सकती है, लेकिन गुरुवार और एकादशी का दिन विशेष रूप से शुभ माना जाता है। इस दिन साधना करने से भगवान विष्णु की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

विष्णु साधना में सावधानियाँ

  1. शुद्धता: साधना के दौरान शुद्धता का विशेष ध्यान रखें। पूजा स्थल, पूजा सामग्री और स्वयं की शुद्धता बनाए रखें।
  2. आहार: साधना के दौरान सात्विक आहार का ही सेवन करें। मांस, मदिरा और तामसिक आहार से परहेज करें।
  3. मन की पवित्रता: साधना करते समय मन, वचन और कर्म की पवित्रता बनाए रखें।
  4. नियमितता: साधना को नियमित रूप से करें। बीच में न छोड़ें।
  5. श्रद्धा और भक्ति: साधना में सच्ची श्रद्धा और भक्ति होनी चाहिए। बिना भक्ति के साधना का पूर्ण फल नहीं मिलता।

विष्णु साधना: अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

1. विष्णु साधना क्या है?

विष्णु साधना भगवान विष्णु की आराधना और ध्यान करने की प्रक्रिया है। यह साधना भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त करने, जीवन के कष्टों से मुक्ति पाने और आध्यात्मिक शांति और समृद्धि प्राप्त करने के लिए की जाती है।

2. विष्णु साधना का सर्वोत्तम समय कौन सा है?

विष्णु साधना का सर्वोत्तम समय प्रातःकाल का ब्रह्म मुहूर्त होता है, जो सूर्योदय से लगभग 1.5 घंटे पहले का समय होता है। यह समय साधना के लिए अत्यंत शुभ माना जाता है।

3. विष्णु साधना करने के लिए कौन सा दिन सबसे शुभ है?

विष्णु साधना किसी भी दिन की जा सकती है, लेकिन गुरुवार और एकादशी के दिन विशेष रूप से शुभ माने जाते हैं। इन दिनों में साधना करने से भगवान विष्णु की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

4. विष्णु साधना के लिए क्या आवश्यक सामग्री चाहिए?

विष्णु साधना के लिए आवश्यक सामग्री में फूल, तुलसी दल, चंदन, धूप, दीप, नैवेद्य, फल, पंचामृत, जल, पवित्र वस्त्र, भगवान विष्णु की मूर्ति या चित्र शामिल हैं।

5. विष्णु साधना की विधि क्या है?

विष्णु साधना की विधि में प्रातःकाल स्नान, पूजा स्थल की शुद्धि, भगवान विष्णु की मूर्ति स्थापना, पूजा सामग्री की व्यवस्था, साधना का संकल्प, मंत्र जाप, अर्चना, ध्यान, आरती और प्रसाद वितरण शामिल हैं।

6. विष्णु साधना के प्रमुख मंत्र कौन से हैं?

विष्णु साधना के प्रमुख मंत्रों में “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” और “ॐ विष्णवे नमः” शामिल हैं। इन मंत्रों का जाप साधना के दौरान किया जाता है।

7. विष्णु साधना के क्या लाभ हैं?

विष्णु साधना के लाभों में सुख और समृद्धि, पाप नाश, मोक्ष की प्राप्ति, मानसिक शांति, शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार, धन-धान्य की वृद्धि, संतान सुख, ग्रह दोष निवारण, दांपत्य सुख, शत्रुता का नाश, धार्मिक लाभ, कर्म शुद्धि, संकट निवारण, ज्ञान की वृद्धि, दुर्घटनाओं से रक्षा, सकारात्मक ऊर्जा, आत्मविश्वास में वृद्धि, सदगति, परिवार में सुख-शांति, और भगवान विष्णु की कृपा प्राप्ति शामिल हैं।

8. विष्णु साधना करते समय किन नियमों का पालन करना चाहिए?

विष्णु साधना करते समय सात्विक आहार का सेवन, नियमित ध्यान और मंत्र जाप, व्रत रखना, मन, वचन और कर्म की पवित्रता बनाए रखना और सच्ची भक्ति और श्रद्धा के साथ साधना करना चाहिए।

9. विष्णु साधना करते समय कौन-कौन सी सावधानियाँ बरतनी चाहिए?

विष्णु साधना करते समय शुद्धता का विशेष ध्यान रखना चाहिए। पूजा स्थल, पूजा सामग्री और स्वयं की शुद्धता बनाए रखें। साधना के दौरान सात्विक आहार का सेवन करें और तामसिक और राजसिक आहार से परहेज करें। मन, वचन और कर्म की पवित्रता बनाए रखें। साधना को नियमित रूप से और संकल्प के साथ करें।

10. क्या विष्णु साधना के दौरान उपवास रखना आवश्यक है?

हां, विष्णु साधना के दौरान उपवास रखना आवश्यक है। उपवास के दौरान फलाहार कर सकते हैं या निर्जला व्रत रख सकते हैं। इससे साधना का प्रभाव अधिक होता है और भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त होती है।

11. क्या विष्णु साधना केवल मंदिर में ही की जा सकती है?

नहीं, विष्णु साधना आप अपने घर में भी कर सकते हैं। घर के किसी पवित्र स्थल पर भगवान विष्णु की मूर्ति या चित्र स्थापित कर पूजा और साधना कर सकते हैं।

12. विष्णु साधना कितने दिनों तक करनी चाहिए?

विष्णु साधना आप अपने संकल्प के अनुसार कर सकते हैं। यह साधना एक दिन से लेकर एक माह तक या अधिक दिनों तक भी की जा सकती है। नियमित रूप से साधना करने से अधिक लाभ प्राप्त होते हैं।

13. विष्णु साधना के दौरान कौन-कौन से मंत्रों का जाप करना चाहिए?

विष्णु साधना के दौरान “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय”, “ॐ विष्णवे नमः”, और अन्य विष्णु स्तोत्रों और मंत्रों का जाप कर सकते हैं। विष्णु सहस्रनाम का पाठ भी अत्यंत लाभकारी होता है।

14. विष्णु साधना के दौरान क्या दान करना चाहिए?

विष्णु साधना के दौरान ब्राह्मणों को अन्न, वस्त्र, धन, और अन्य आवश्यक वस्तुओं का दान करना चाहिए। दान देने से साधना का पुण्य और अधिक बढ़ता है।

15. क्या विष्णु साधना के दौरान तुलसी दल का उपयोग आवश्यक है?

हां, विष्णु साधना के दौरान तुलसी दल का उपयोग अत्यंत आवश्यक है। भगवान विष्णु की पूजा में तुलसी दल का विशेष महत्व होता है और इससे भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं।

16. क्या विष्णु साधना के दौरान केवल पूजा ही करनी चाहिए या ध्यान भी?

विष्णु साधना के दौरान पूजा के साथ-साथ ध्यान भी करना चाहिए। भगवान विष्णु का ध्यान करने से मन को शांति मिलती है और साधना का पूर्ण फल प्राप्त होता है।

17. विष्णु साधना के दौरान कौन-कौन सी कथा का पाठ करना चाहिए?

विष्णु साधना के दौरान विष्णु पुराण, भागवत पुराण और अन्य विष्णु से संबंधित कथाओं का पाठ करना चाहिए। इन कथाओं का पाठ करने से साधक को अधिक लाभ प्राप्त होता है।

18. विष्णु साधना के दौरान क्या हम दूसरे देवी-देवताओं की पूजा भी कर सकते हैं?

हां, विष्णु साधना के दौरान आप अन्य देवी-देवताओं की पूजा भी कर सकते हैं, लेकिन साधना का मुख्य केंद्र भगवान विष्णु ही होने चाहिए।

19. क्या विष्णु साधना से सभी प्रकार के कष्ट दूर हो जाते हैं?

विष्णु साधना से जीवन के अनेक कष्ट दूर होते हैं और साधक को मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक लाभ प्राप्त होते हैं। भगवान विष्णु की कृपा से जीवन में सुख-शांति और समृद्धि आती है।

20. विष्णु साधना के बाद क्या करना चाहिए?

विष्णु साधना के बाद भगवान विष्णु की आरती करें, प्रसाद का वितरण करें और स्वयं भी ग्रहण करें। ब्राह्मणों और गरीबों को दान दें और उनके साथ भोजन साझा करें। साधना के बाद भगवान विष्णु का ध्यान करते रहें और उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त करें।

अंत में

विष्णु साधना एक अत्यंत प्रभावशाली और पुण्यदायक साधना है, जो जीवन के सभी कष्टों को दूर करने और भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त करने में सहायक होती है। इस साधना से जीवन में सुख, शांति, समृद्धि और स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है। विष्णु साधना का पालन करते समय शुद्धता, सात्विकता और भक्ति का विशेष ध्यान रखना चाहिए। साधना को नियमित रूप से और संकल्प के साथ करना चाहिए ताकि भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त हो सके और जीवन में सभी प्रकार के लाभ मिल सकें।