बटुक भैरव / Batuk bhairav Mantra

माता दुर्गा की कृपा के साथ सुरक्षा करने वाले बटुक भैरव भगवान शिव का ही एक बाल स्वरूप हैं, बटुक भैरव को देखकर माता दुर्गा हमेशा प्रसन्न रहती है.

बटुक भैरव मंत्र:

  • || ॐ भ्रं बटुक भैरवाय रुद्राय नमः ||
  • मुहुर्तः शनिवार, ग्रहण, अमवास्या, अष्टमी तिथि, भैरव जयंती.

बटुक भैरव का मंत्र किसी भी दिन जप किया जा सकता है। हालांकि, कुछ लोग शनिवार को इस मंत्र का जप करते हैं

  1. रक्षा और सुरक्षा
  2. सफलता
  3. भय और चिंता से मुक्ति
  4. शांति और समृद्धि
  5. रोग नाशन

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *