Hanuman sabar mantra sadhana for success

हनुमान साबर साधना

हनुमान साबर साधना एक विशेष साधना है जो भगवान हनुमान की कृपा प्राप्त करने के लिए की जाती है। यह साधना सामान्य विधि से की जाती है और इसमें कुछ विशेष मंत्रों का प्रयोग किया जाता है। हनुमान साबर साधना का उद्देश्य है साधक को बल, साहस, और आत्मविश्वास प्रदान करना। इसे करने से साधक के जीवन में सभी प्रकार की बाधाएँ दूर होती हैं और उसे सफलता, शांति, और समृद्धि प्राप्त होती है। साबर मंत्र पढने मे अजीब होते है लेकिन कार्य मे बहुत ही अचूक माने जाते है।

हनुमान साबर साधना विधि

  1. साधना के दिन: मंगलवार और शनिवार को साधना प्रारंभ करना शुभ माना जाता है।
  2. साधना का समय: ब्रह्ममुहूर्त या रात्रि 12 बजे का समय सबसे उत्तम है।
  3. साधना का स्थान: एकांत और शुद्ध स्थान पर साधना करें। मंदिर या पूजा कक्ष सबसे उत्तम स्थान है।
  4. आसन: कुशा का आसन प्रयोग करें।
  5. वस्त्र: लाल वस्त्र पहनें और लाल आसन का प्रयोग करें।
  6. पूजा सामग्री: लाल फूल, सिंदूर, चमेली का तेल, दीपक, अगरबत्ती, पान के पत्ते, सुपारी, गुड़, और हनुमान जी की मूर्ति या चित्र।
  7. मंत्र: साधना के दौरान निम्न मंत्र का जाप करें:
   "ॐ हं हनुमंते करो हमारे काज, जो ना करे, तो माता अंजनी की आन" "OM HAMM HANUMANTE KARO HAMAARE KAAJ, JO NAA KARE, TO MAATAA ANJANEE KI AAN "

हनुमान सबर साधना के लाभ

  1. साहस और बल: साधना से साधक में साहस और बल की वृद्धि होती है।
  2. भय नाश: साधना करने से सभी प्रकार के भय दूर होते हैं।
  3. स्वास्थ्य: साधक को उत्तम स्वास्थ्य प्राप्त होता है।
  4. आध्यात्मिक उन्नति: साधक की आध्यात्मिक उन्नति होती है।
  5. संकट निवारण: सभी प्रकार के संकटों का निवारण होता है।
  6. विजय: साधक को सभी कार्यों में विजय प्राप्त होती है।
  7. धन प्राप्ति: साधना से धन की प्राप्ति होती है।
  8. कष्टों का नाश: साधक के सभी कष्टों का नाश होता है।
  9. मन की शांति: साधक को मन की शांति प्राप्त होती है।
  10. शत्रु नाश: साधक के शत्रुओं का नाश होता है।
  11. बुद्धि वृद्धि: साधक की बुद्धि में वृद्धि होती है।
  12. रोग नाश: सभी प्रकार के रोगों का नाश होता है।
  13. कार्य सिद्धि: साधक के सभी कार्य सिद्ध होते हैं।
  14. विवाह में सफलता: विवाह में आने वाली बाधाएँ दूर होती हैं।
  15. परिवार की सुख-शांति: परिवार में सुख-शांति और समृद्धि बनी रहती है।
  16. दुर्घटना नाश: दुर्घटनाओं से रक्षा होती है।
  17. कर्ज मुक्ति: कर्ज से मुक्ति प्राप्त होती है।
  18. भाग्य वृद्धि: साधक का भाग्य चमकता है।
  19. ज्ञान प्राप्ति: साधक को ज्ञान की प्राप्ति होती है।
  20. आत्मविश्वास: साधक में आत्मविश्वास की वृद्धि होती है।

हनुमान सबर साधना के दौरान नियम और संयम का पालन अत्यंत आवश्यक है। इस साधना को पूर्ण श्रद्धा और विश्वास के साथ करने से साधक को भगवान हनुमान की कृपा अवश्य प्राप्त होती है।