How to Perform Yogini Akadashi Vrat

योगिनी एकादशी व्रत

योगिनी एकादशी व्रत हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण व्रत माना जाता है जिसे आषाढ़ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को मनाया जाता है। यह व्रत विशेष रूप से पापों से मुक्ति दिलाने और समस्त इच्छाओं की पूर्ति करने वाला माना जाता है। योगिनी एकादशी का वर्णन पुराणों में विशेष स्थान रखता है और इसे सभी प्रकार के दुखों से मुक्ति और मोक्ष प्राप्ति का व्रत माना जाता है।

योगिनी एकादशी व्रत की कथा

योगिनी एकादशी की व्रत कथा भगवान श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर को सुनाई थी। कथा के अनुसार, अलकापुरी नामक नगरी में कुबेर नामक राजा राज्य करते थे। उनके दरबार में हेममाली नामक एक माली था, जो राजा के लिए पुष्प लाने का कार्य करता था। हेममाली की पत्नी का नाम विशालाक्षी था, जिससे वह बहुत प्रेम करता था। एक दिन, हेममाली अपनी पत्नी के साथ रमण कर रहा था और पुष्प लाने में विलंब कर दिया। इस पर राजा कुबेर ने उसे दंड देने का निश्चय किया।

राजा ने क्रोधित होकर हेममाली को श्राप दिया कि वह कुष्ठ रोग से ग्रस्त हो जाए और वन में जाकर अपने पापों का प्रायश्चित करे। हेममाली श्राप से ग्रस्त होकर वन में चला गया और अत्यंत दुखी रहने लगा। एक दिन, वह महर्षि मार्कंडेय के आश्रम में पहुंचा और उन्हें अपनी व्यथा सुनाई। महर्षि मार्कंडेय ने उसे योगिनी एकादशी का व्रत करने की सलाह दी।

हेममाली ने विधिपूर्वक योगिनी एकादशी का व्रत किया, जिससे उसे कुष्ठ रोग से मुक्ति मिली और वह पुनः अपने पूर्वजन्म के पापों से मुक्त होकर स्वस्थ और सुखी हो गया। इस प्रकार, योगिनी एकादशी व्रत का महत्व स्पष्ट होता है कि यह व्रत पापों से मुक्ति दिलाने और जीवन में सुख-समृद्धि लाने वाला होता है।

योगिनी एकादशी व्रत की विधि

योगिनी एकादशी व्रत को विधिपूर्वक करने से भगवान विष्णु की विशेष कृपा प्राप्त होती है। इस व्रत की विधि निम्नलिखित है:

व्रत की पूर्व संध्या

  1. स्नान और शुद्धता: व्रत की पूर्व संध्या को स्नान करके शुद्ध वस्त्र धारण करें और मन को शुद्ध एवं पवित्र रखें।
  2. संकल्प: संध्याकाल में भगवान विष्णु की पूजा करें और अगले दिन एकादशी व्रत का संकल्प लें।

व्रत के दिन

  1. स्नान और पूजा: एकादशी के दिन ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करके भगवान विष्णु की पूजा करें। उन्हें तुलसी दल, फल, पुष्प, धूप-दीप आदि अर्पित करें।
  2. व्रत का पालन: दिनभर निराहार (बिना अन्न ग्रहण किए) रहें और भगवान विष्णु के नाम का जाप करें। यदि संभव हो तो निर्जल व्रत रखें, अन्यथा जल और फलाहार ले सकते हैं।
  3. ध्यान और कथा: दिनभर भगवान विष्णु का ध्यान करें और योगिनी एकादशी व्रत कथा का पाठ या श्रवण करें।
  4. सत्संग और सेवा: इस दिन सत्संग का आयोजन करें और गरीबों, जरूरतमंदों को दान-दक्षिणा दें।
  5. रात्रि जागरण: रात्रि में भगवान विष्णु की भक्ति में लीन रहें और जागरण करें।
  6. मंत्रः “ॐ ह्रीं योगिनेश्वरी क्लीं विष्णुवे नमः” “OM HREEM YOGINESHWARI KLEEM VISHNUVE NAMAHA”

व्रत के अगले दिन (द्वादशी)

  1. पारणा: द्वादशी के दिन ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करके पूजा करें और व्रत का पारण करें। पारण के समय भगवान विष्णु को नैवेद्य अर्पित करें और फिर स्वयं भोजन ग्रहण करें।

योगिनी एकादशी व्रत का महत्व

योगिनी एकादशी व्रत का अत्यंत धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व है। यह व्रत व्यक्ति के जीवन में कई प्रकार के लाभ पहुंचाता है:

  1. पापों से मुक्ति: इस व्रत को करने से व्यक्ति के सभी पाप धुल जाते हैं और उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है।
  2. स्वास्थ्य लाभ: योगिनी एकादशी व्रत करने से व्यक्ति को शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होते हैं।
  3. धन और समृद्धि: इस व्रत को करने से व्यक्ति के जीवन में धन और समृद्धि का आगमन होता है।
  4. सुख-शांति: यह व्रत करने से व्यक्ति के जीवन में सुख-शांति और संतोष की प्राप्ति होती है।
  5. भक्ति और श्रद्धा: इस व्रत से भगवान विष्णु की विशेष कृपा प्राप्त होती है और व्यक्ति की भक्ति और श्रद्धा में वृद्धि होती है।

योगिनी एकादशी व्रत के नियम

योगिनी एकादशी व्रत के कुछ विशेष नियम होते हैं जिनका पालन करना आवश्यक होता है:

  1. अहिंसा: इस दिन अहिंसा का पालन करें और किसी भी प्रकार की हिंसा से दूर रहें।
  2. सात्विक भोजन: यदि फलाहार करना हो तो सात्विक और शुद्ध भोजन का सेवन करें।
  3. व्रत की शुद्धता: व्रत के दिन शारीरिक और मानसिक शुद्धता का ध्यान रखें।
  4. सत्य व्रत: इस दिन असत्य भाषण, छल-कपट आदि से दूर रहें और सत्य का पालन करें।
  5. भक्ति और ध्यान: भगवान विष्णु की भक्ति में लीन रहें और अधिक से अधिक समय ध्यान और जाप में बिताएं।

अंत मे

योगिनी एकादशी व्रत का अत्यंत महत्व है और यह व्रत व्यक्ति के जीवन में सुख, शांति, और समृद्धि लाने में सहायक होता है। इस व्रत को विधिपूर्वक करने से भगवान विष्णु की विशेष कृपा प्राप्त होती है और व्यक्ति के सभी पापों का नाश होता है। अतः योगिनी एकादशी व्रत को श्रद्धा और भक्ति के साथ करना चाहिए और इसके समस्त लाभ प्राप्त करने के लिए नियमों का पालन करना आवश्यक है।