Sudarshan chakra mantra for strong protection

सुदर्शन चक्र भगवान विष्णु का एक अमोघ सुरक्षा चक्र होता है. यही शक्ति सुदर्शन चक्र के मंत्रो मे होती है. ये मंत्र चारो दिशाओ से विष्णू भक्तो की रक्षा करता है. रोग बाधा, नजर बाधा, शत्रु बाधा, तंत्र बाधा से मनुष्य को सुरक्षित रहता है.

शक्तियां और उपयोग

  • अचूक: सुदर्शन चक्र अत्यंत अचूक है और हमेशा अपने लक्ष्य को भेदता है।
  • विनाशकारी शक्ति: इसमें अत्यंत विनाशकारी शक्ति होती है जो शत्रुओं का क्षण भर में नाश कर सकती है।
  • रक्षा: यह भगवान विष्णु और उनके भक्तों की रक्षा करता है।
  • नैतिकता: सुदर्शन चक्र मंत्र का प्रयोग अपने स्वार्थ के लिये नही करना चाहिये.

Sudarshan Chakra Mantra

सुदर्शन चक्र मंत्र, ॥ॐ श्रीं नारायणाय सुदर्शनाय दं नमो नमः॥ एक अत्यंत शक्तिशाली मंत्र है। यह मंत्र भगवान विष्णु के सुदर्शन चक्र की कृपा प्राप्त करने और उनके आशीर्वाद से जीवन के विभिन्न संकटों को दूर करने में सहायक है।

Samagri

  1. सुदर्शन चक्र की मूर्ति या चित्र
  2. तारा माता की मूर्ति या चित्र
  3. पंचामृत (दूध, दही, घी, शहद और शक्कर)
  4. फूल और माला
  5. धूप और दीपक
  6. अगरबत्ती
  7. फल और मिठाई
  8. नारियल
  9. चंदन और कुमकुम
  10. सुदर्शन चक्र मंत्र की पुस्तक या पृष्ठ
  11. पवित्र जल (गंगाजल)
  12. आसन (बैठने के लिए साफ कपड़ा)

Day Muhurta

सुदर्शन चक्र मंत्र का जाप किसी भी शुभ मुहूर्त में किया जा सकता है। विशेष रूप से, एकादशी, द्वादशी या पूर्णिमा तिथि को यह जाप अधिक फलदायी माना जाता है। गुरुवार और रविवार के दिन भी सुदर्शन चक्र की पूजा के लिए अत्यंत शुभ माने जाते हैं।

Duration

सुदर्शन चक्र मंत्र का जाप कम से कम 108 बार रोजाना किया जाना चाहिए। साधक 21, 41, या 108 दिनों तक इस मंत्र का अनुष्ठान कर सकते हैं। इसका जाप नियमित रूप से करने से साधक को अधिक लाभ प्राप्त होता है।

Benefits

  1. संकटों से मुक्ति: सुदर्शन चक्र मंत्र के जाप से जीवन में आने वाले सभी संकटों और कठिनाइयों से मुक्ति मिलती है।
  2. आध्यात्मिक उन्नति: इस मंत्र का नियमित जाप साधक को आध्यात्मिक रूप से उन्नत करता है।
  3. मानसिक शांति: सुदर्शन चक्र की कृपा से साधक को मानसिक शांति और स्थिरता प्राप्त होती है।
  4. सुरक्षा: सुदर्शन चक्र अपने भक्तों को सभी प्रकार की बुराइयों और नकारात्मक शक्तियों से सुरक्षित रखता है।
  5. स्वास्थ्य: इस मंत्र का जाप करने से साधक का स्वास्थ्य अच्छा रहता है और बीमारियाँ दूर होती हैं।
  6. धन-समृद्धि: सुदर्शन चक्र की कृपा से साधक को धन और समृद्धि की प्राप्ति होती है।
  7. सुखी वैवाहिक जीवन: इस मंत्र का जाप करने से वैवाहिक जीवन में सुख और समृद्धि आती है।
  8. ज्ञान प्राप्ति: सुदर्शन चक्र की उपासना से साधक को ज्ञान और बुद्धि की प्राप्ति होती है।
  9. कर्म बाधा निवारण: सुदर्शन चक्र मंत्र के जाप से साधक के सभी कर्म बाधाओं का निवारण होता है।
  10. आत्मविश्वास वृद्धि: इस मंत्र का जाप करने से साधक का आत्मविश्वास बढ़ता है।
  11. समस्या समाधान: सुदर्शन चक्र की कृपा से जीवन की सभी समस्याओं का समाधान मिलता है।
  12. मनोबल: इस मंत्र का जाप साधक के मनोबल को बढ़ाता है।
  13. संतान प्राप्ति: इस मंत्र का जाप करने से नि:संतान दंपतियों को संतान सुख प्राप्त होता है।
  14. दुश्मनों से रक्षा: सुदर्शन चक्र अपने भक्तों को दुश्मनों से सुरक्षित रखता है।
  15. भाग्य वृद्धि: सुदर्शन चक्र मंत्र के जाप से साधक का भाग्य प्रबल होता है।
  16. शत्रु नाश: इस मंत्र का जाप करने से शत्रुओं का नाश होता है।
  17. सकारात्मक ऊर्जा: सुदर्शन चक्र की कृपा से साधक के चारों ओर सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।
  18. वाणी में मधुरता: इस मंत्र का जाप करने से साधक की वाणी में मधुरता आती है।
  19. मन की शुद्धता: सुदर्शन चक्र की कृपा से साधक का मन शुद्ध और पवित्र होता है।
  20. सफलता: इस मंत्र का नियमित जाप साधक को सभी कार्यों में सफलता प्रदान करता है।

Precautions

  1. शुद्धता: मंत्र जाप के समय शुद्धता का विशेष ध्यान रखें। पूजा स्थल और साधक का मन एवं शरीर पवित्र होना चाहिए।
  2. समय की पाबंदी: मंत्र जाप एक निश्चित समय पर ही करें, इससे सुदर्शन चक्र की कृपा शीघ्र प्राप्त होती है।
  3. आसन: जाप करते समय हमेशा एक ही आसन का प्रयोग करें। इससे एकाग्रता बढ़ती है।
  4. संयम: मंत्र जाप के दौरान संयमित आहार और विचार रखें।
  5. विश्वास: सुदर्शन चक्र पर पूर्ण विश्वास और श्रद्धा के साथ मंत्र जाप करें।
  6. समर्पण: सुदर्शन चक्र के प्रति पूर्ण समर्पण भाव रखें।
  7. प्रणव ध्यान: मंत्र जाप से पहले और बाद में प्रणव (ॐ) का ध्यान करें।
  8. अनुष्ठान की समाप्ति: अनुष्ठान की समाप्ति पर सुदर्शन चक्र को विधिवत धन्यवाद और प्रार्थना करें।
  9. नियमितता: मंत्र जाप नियमित रूप से करें, बीच में बाधा न डालें।
  10. शांतिपूर्ण वातावरण: मंत्र जाप एक शांतिपूर्ण और स्वच्छ वातावरण में करें।

सुदर्शन चक्र मंत्र का जाप भगवान विष्णु के सुदर्शन चक्र की कृपा और आशीर्वाद प्राप्त करने का एक सशक्त माध्यम है। यह मंत्र साधक को सभी प्रकार की बाधाओं और समस्याओं से मुक्त करता है और जीवन में सुख, समृद्धि और शांति लाता है। सुदर्शन चक्र की उपासना से साधक का जीवन उज्जवल और कल्याणकारी होता है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *