Loading...

Holika dahan-10 rules

होलिका पूजा से मन के दोष, नकारात्मक विचार, पाप कर्म नष्ट होते है, होली पूजन के नियम इस प्रकार हैं:

  1. समय और तिथि: होलिका पूजा को होलिका दहन के दिन, फागुन पूर्णिमा के एक दिन पहले, या फिर होली के दिन सुबह किया जाता है।
  2. पूजा स्थल: होलिका पूजा का स्थान शुद्ध और साफ होना चाहिए।
  3. पूजन सामग्री: पूजन के लिए चावल, घी, गुड़, मूंगफली, फूल, नारियल, रंग, आदि की आवश्यकता होती है।
  4. संकल्प: पूजा शुरू करने से पहले संकल्प लेना चाहिए।
  5. अग्नि की स्थापना: होलिका की छोटी ईंट का एक चौथाई हिस्सा अग्नि के लिए रखना चाहिए।
  6. पूजा क्रम: गणेश पूजन के बाद होलिका की पूजा की जाती है।
  7. कथा: होलिका पूजा के दौरान होलिका कथा का पाठ करना चाहिए।
  8. आरती: पूजा के बाद आरती करना चाहिए।
  9. प्रसाद: पूजा के बाद प्रसाद बांटना चाहिए।
  10. होली खेल: पूजा के बाद होली खेला जाता है।

ये थे होलिका पूजा के मुख्य नियम, जिन्हें अनुसरण करके पूजा की जा सकती है।

Holika dahan rules

Time and Date: Holika Puja is performed on the day of Holika Dahan, a day before Phagun Purnima, or in the morning on the day of Holi.

Place of worship: The place of Holika puja should be pure and clean.

Puja material: Rice, ghee, jaggery, peanuts, flowers, coconut, colors, etc. are required for the puja.

Sankalp: Sankalp should be taken before starting the puja.

Setting up the fire: One-fourth of the small brick of Holika should be kept for the fire.

Worship sequence: Holika is worshiped after Ganesh puja.

Katha: Holika Katha should be recited during Holika Puja.

Aarti: Aarti should be performed after the puja.

Prasad: Prasad should be distributed after the puja.

Holi game: Holi is played after the puja.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

INR
USD
EUR
AUD
GBP
INR
USD
EUR
AUD
GBP