Loading...

Shri sukta paath for money attraction

आर्थिक समस्या से छुटकारा दिलाने वाले श्रीं सूक्त का पाठ करने से धन, समृद्धि, सुख-शांति, स्वास्थ्य, और सम्पूर्ण कल्याण की प्राप्ति होती है। यह सूक्त माँ लक्ष्मी की स्तुति करता है और उनकी कृपा को प्राप्त पाने में सहायक होता है। इसका पाठ नियमित रूप से किया जाए तो धन और समृद्धि में वृद्धि हो सकती है।

श्री सूक्त का पाठ करने के कई लाभ हो सकते हैं। यहाँ कुछ मुख्य लाभ दिए जा रहे हैं:

  1. धन प्राप्ति: श्री सूक्त का पाठ करने से धन की प्राप्ति हो सकती है। माँ लक्ष्मी की कृपा से आर्थिक स्थिति में सुधार होता है।
  2. समृद्धि: यह सूक्त समृद्धि और सम्पत्ति को बढ़ावा देने में मदद करता है।
  3. आरोग्य: श्री सूक्त का पाठ करने से आरोग्य में सुधार हो सकता है और रोगों से मुक्ति मिलती है।
  4. सुख और शांति: इस सूक्त का पाठ करने से परिवार में सुख और शांति बनी रहती है।
  5. कामना सिद्धि: यह सूक्त कामनाओं की सिद्धि में मदद कर सकता है और मनोबल को मजबूत करता है।
  6. कल्याण: श्री सूक्त का पाठ करने से समाज में कल्याण की प्राप्ति हो सकती है और समस्त लोगों के लिए उत्तम भविष्य होता है।
  7. आत्मविश्वास: इस सूक्त का पाठ करने से आत्मविश्वास और स्वयं पर विश्वास बढ़ता है।
  8. कष्ट निवारण: श्री सूक्त का पाठ करने से कष्ट और दुःखों का निवारण होता है।
  9. सफलता: यह सूक्त समृद्धि और सफलता के लिए मार्गदर्शन कर सकता है और जीवन में सफलता की प्राप्ति में मदद करता है।
  10. आत्मा की उन्नति: श्री सूक्त का पाठ करने से आत्मा की उन्नति होती है और व्यक्ति के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आता है।

श्रीसूक्त का पूरा पाठ निम्नलिखित है:

ॐ नमो भगवत्यै वासुदेवाय।।

श्रीवासुदेवाय विश्वेश्वराय महादेवाय त्र्यम्बकाय त्रिपुरान्तकाय त्रिकालाग्निकालाय कालाग्निरुद्राय नीलकण्ठाय मृत्युञ्जयाय सर्वेश्वराय सदाशिवाय श्रीमन् महादेवाय नमः।

नमः शिवाय च शिवतराय च।

ॐ वासुदेवाय शान्ताय नमः।

हिरण्यवर्णां हरिणीं सुवर्णरजतस्रजाम्।

चन्द्रां हिरण्मयीं लक्ष्मीं जातवेदो म आवह।।

ताम् आवह जातवेदो लक्ष्मीम् अनपगामिनीम्।

यस्यां हिरण्यं प्रभूतं गावो दास्योऽश्वान् विन्देयं पुरुषाँ यो ऽश्नुते।।

ताम् आवह जातवेदो लक्ष्मीम् अनपगामिनीम्।

आपः सृजन्तु स्निग्धानि चिक्लीत वस मेऽनलः।

आपो रेतो धनं यज्ञं विश्वतः परिभूषयन्ति।।

चन्द्रां प्रभासां यशसा ज्योतिर्लोके देवजुष्टाम्।

उदयत्-प्रद्युत्-पापात्मा तमेऽवह ज्योतिषां रजसः।।

तां म आवह जातवेदो लक्ष्मीम् अनपगामिनीम्।

एतां माम् उद्वह जातवेदो लक्ष्मीम् अनपगामिनीम्।

आगच्छ देव वीर्याणि प्रभवाश्च महार्हणात्।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि।।

श्रीसूक्तं एतत् कर्णे पथेत् यः पठेत् सुखम्।

सुख शान्ति समृद्धि च भूयात् पुत्रपौत्रहानिकाम्।।

सर्व मङ्गल माङ्गल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।

शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते।।

इति श्री सूक्तं सम्पूर्णम्।

पठन परायणे च वासुदेवस्य नित्यदा।

भक्तिर्न परायणं तु तस्यै नित्यं श्रियं लभेत्।।

श्रीसूक्त सम्पूर्णम्।

अथ शान्तिकारणं।

2 thoughts on “Shri sukta paath for money attraction

    1. If you are watching from mobile, then click on the 3rd line on the top left and you can choose the language of your choice by clicking on Hindi below.
      ……
      आप अगर मोबाइल से देख रहे है तो ऊपर लेफ्ट मे ३ लाईन पर क्लिक करे और नीचे हिंदी को क्लिक करके मन पसंद भाषा का चुनाव कर सकते है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

INR
USD
EUR
AUD
GBP
INR
USD
EUR
AUD
GBP