Loading...

संहार भैरव / Samhaara Bhairav Mantra

क्लेश व विवाद को नष्ट करने वाले संहार भैरव, जिन्हें भैरव के उग्र रूप के रूप में जाना जाता है, भगवान शिव का एक महाकालीन रूप हैं। इन्हें भगवान शिव के उग्र स्वरूप, संहारक शक्ति, और संहार के देवता के रूप में जाना जाता है। इनके द्वारा भक्तों को संहार के भय से मुक्ति, समृद्धि, और सफलता प्राप्त होती है।

संहार भैरव मंत्र:

  • || ॐ भ्रं संहार भैरवाय नमः ||
  • मुहुर्तः शनिवार, ग्रहण, अमवास्या, अष्टमी तिथि, भैरव जयंती.
  • संहार के भय से मुक्ति प्राप्त होती है।
  • समृद्धि और धन की प्राप्ति में सहायक होता है।
  • संहार भैरव की कृपा से सफलता मिलती है।
  • भय के खिलाफ रक्षा प्राप्त होती है।
  • ऊर्जा और धैर्य की वृद्धि होती है।
  • नकारात्मकता और संकटों का समापन होता है।

About Samhaara Bhairav Mantra:

|| Om Hreem Samhaara Bhairavaaya Namaha ||

  • Protection from fear and negativity.
  • Removal of obstacles and challenges.
  • Attainment of prosperity and success.
  • Increase in courage and strength.
  • Elimination of enemies and troubles.
  • Overall spiritual growth and protection.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

INR
USD
EUR
AUD
GBP
INR
USD
EUR
AUD
GBP