Loading...

Sarawati mantra for wisdom

माता सरस्वती- योग्यता, विद्या, ज्ञान, कला और संगीत की देवी

माता सरस्वती हिंदू धर्म में ज्ञान, कला, संगीत, और विद्या की देवी हैं। वे भगवान ब्रह्मा की पत्नी और सृष्टि की रचना में उनकी सहयोगी मानी जाती हैं. इनकी कृपा से ज्ञान, स्मरणशक्ति, सीखने की क्षमता, पढने की क्षमता, बातचीत करने की क्षमता मे बढोतरी होती है.

माता सरस्वती का स्वरूपः

  • माता सरस्वती को आमतौर पर कमल के फूल पर बैठी, वीणा बजाते हुए चित्रित किया जाता है।
  • उन्हें चार हाथों से युक्त दिखाया जाता है, जिनमें से प्रत्येक में एक अलग वस्तु होती है:
    • ऊपरी दायां हाथ: वीणा (संगीत का प्रतीक)
    • ऊपरी बायां हाथ: पुस्तक (ज्ञान का प्रतीक)
    • नीचे दायां हाथ: माला (ध्यान का प्रतीक)
    • नीचे बायां हाथ: जल पात्र (शुद्धि का प्रतीक)
  • माता सरस्वती को अक्सर हंस के साथ भी चित्रित किया जाता है, जो ज्ञान और ज्ञानोदय का प्रतीक है।

पूजा और महत्व:

  • माता सरस्वती की पूजा विभिन्न तरीकों से की जाती है, जिसमें स्तोत्र, मंत्र, और आरती शामिल हैं।
  • वसंत पंचमी को माता सरस्वती का जन्मदिन माना जाता है और इस दिन उनकी विशेष पूजा की जाती है।
  • माता सरस्वती की पूजा करने से भक्तों को ज्ञान, विद्या, और कला में सफलता प्राप्त होती है।
  • माता सरस्वती को घर में रखने से सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है और नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है।
  • सरस्वती मंत्रः ॥ॐ ऐं सरस्वतेय नमः॥
  • मुहुर्थः बुधवार, पंचमी, बसंत पंचमी

One thought on “Sarawati mantra for wisdom

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

INR
USD
EUR
AUD
GBP
INR
USD
EUR
AUD
GBP